सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सामान्य ज्ञान बहुविकल्पीय प्रश्न और उत्तर | GK MCQ Questions and Answers (प्रश्नोत्तरी नंबर 1)

  सामान्य ज्ञान बहुविकल्पीय प्रश्न और उत्तर | GK MCQ Questions and Answers

सामान्य ज्ञान बहुविकल्पीय प्रश्न और उत्तर  | GK MCQ Questions and Answers (प्रश्नोत्तरी नंबर 1)

 प्रश्नोत्तरी नंबर 1
GK MCQ
HPAS, HPTET, CTET, UPSC,NDA,CDS,Bankingऔर अन्य प्रतियोगिताओं के लिए


सामान्य ज्ञान बहुविकल्पीय प्रश्न |GK MCQ

Q.1 :- धरती की उत्त्पति कब हुई  ?  
(ए)  350 करोड़ बर्ष पहले 
(बी) 480 करोड़ बर्ष पहले 
(सी) 400 करोड़ बर्ष पहले



Q.2 :- धरती पर जीवन कब आया  ? 
(क) 350 करोड़ बर्ष पहले 
(ख) 300 करोड़ बर्ष पहले 
(ग)  480 करोस बर्ष पहले 


बहुविकल्पीय प्रश्न और उत्तर l MCQ Questions and Answers

Q.3 :- धरती पर इंसानी जीवन कब शुरू हुआ ?
(क) 42 हज़ार बर्ष पहले
(ख) 42 लाख बर्ष पहले  
(ग) 42 करोड़ बर्ष पहले


Q.4 :- भारत यह नाम किस के नाम पर पड़ा   ?
(क) भारत नाम स्वतंत्रता सेनानियों ने रखा   
(ख) कैकयी  पुत्र भरत के नाम पर  
(ग) दुष्यंत पुत्र भरत के नाम पर  


Q.5 :- भारत का नाम INDIA किस ने दिया   ?

(a) अमेरिका ने 
(b) अंग्रेजों ने 
(c) यूनानियों ने  
 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Holika Dahan Katha | जानें होलिका दहन की क्या कहानी है

  Holika Dahan Katha | जानें होलिका दहन की क्या कहानी है  Amazing Facts (अद्भुत रहस्य ) दोस्तों जैसा की आप सभी को मालूम है हिन्दू धर्म में बहुत से पर्व मनाए जाते है और इनमें कई पर्व ऐसे हैं जो बुराई पर अच्छाई की जीत की विजय के रूप में मनाए जाते हैं | इन्हीं पर्वों मे से एक है होली तथा होलिका दहन का उत्सव | होलिका दहन कब मनाया जाता है :- होलिका दहन फाल्गुन मास की पूर्णिमा को रंगों बाली होली खेलने से एक दिन पहले मनाया जाता है | होलिका दहन के पीछे की कहानी  :- विष्णु पुराण के अनुसार सतयुग में महर्षि कश्यप और उन की पत्नी दिति के दो पुत्र हुए जिन का नाम हिरण्यकशिपु और हिरण्याक्ष रखा गया |  हिरण्याक्ष का बद्ध भगवान ने वराह अवतार लेकर किया था | हिरण्यकशिपु ने कठिन तपस्या के द्वारा ब्रह्मा जी से यह वरदान प्राप्त किया की उसे ना तो कोई मनुष्य मार सके ना ही कोई पशु ,वह ना तो दिन मे मरे ना रात को ,ना घर के अंदर ना बाहर ,ना किसी शस्त्र से ना किसी अस्त्र से | यह वरदान प्राप्त कर के वह अहंकारी हो गया , उस ने इन्द्र लोक को जीत लिया तथा तीनों लोकों को कष्ट देने लगा, वह चाहता था को सभी लोग उसे भगवान मा